Health benefits of makhana in pregnancy: “प्रेग्नन्सी में सम्पूर्ण पोषण के लिए करें मखाने का सेवन”

pregnancy me makhana khane ke fayde

(प्रेग्नन्सी के वक्त इस बात का विशेष ध्यान रखना होता है कि हम हैल्थी आहार का सेवन करें। ताकि गर्भ में मौजूद बच्चा स्वस्थ और विकसित पैदा हो। इस दौरान प्रोटीन और कैलशियम की कमी होना आम होता है। जिसका कारण है शरीर को सम्पूर्ण पोषण प्राप्त न हो पाना। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मखाना का सेवन प्रेग्नन्सी की इस समस्या में आपकी सहायता करता है। आइए आपको बताते हैं कैसे )

Makhana In Pregnancy:

प्रेग्नन्सी के दौरान महिलाओं को अपने आहार का विशेष रूप से ध्यान रखना होता है। कारण है माँ से जुड़ी बच्चे का विकास और उसकी सेहत। इसलिए इस दौरान स्वस्थ एवं पोषण भरे आहार खाने की सलाह दी जाती है। प्रेग्नन्सी में महिलाओं के हॉर्मोन्स में भी बदलाव होता है। जैसे कि चक्कर आना और कमजोरी महसूस होना। लेकिन ये समस्या होना एक आम बात है। 


प्रेग्नन्सी में प्रोटीन, कैल्शियम आदि की कमी होना स्वाभाविक है। डॉक्टर और एक्स्पर्ट्स का मानना है कि आपको प्रेग्नन्सी के दौरान आपको उन पदार्थों का जरूर करना चाहिए। जिनसे आपको इन तत्वों की सम्पूर्ण मात्रा प्राप्त हो सके।  चाहिए। इसलिए जब आपको इस तरह की समस्या महसूस हो। तब आप अपने आहार में मखाने का सेवन अवश्य शामिल करें। साथ ही आप हरी सब्जियां, मौसम के फल आदि को भी शामिल कर सकते हैं। 


मखाने का सेवन वैसे तो ज़्यादातर विभी व्यंजनों में गारनिशिंग के लिए करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि मखाने का सेवन प्रेग्नन्सी में हाई बीपी एवं डायबिटीज़ जैसी समस्याओं का बेहतरीन इलाज है। इसके अंदर भरपूर मात्रा में पानी, ऊर्जा, प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन के आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो प्रेग्नन्सी में पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए उपयोगी है।  जी हाँ, प्रेग्नन्सी में मखाने का सेवन आपको कई फायदे देता है। तो आइए आज इस लेख में आपको बताते हैं प्रेग्नन्सी में मखाना क्यूँ है ज़रूरी और प्रेग्नन्सी में मखाने खाने के फायदे …!!! 

प्रेग्नन्सी में मखाना क्यूँ है ज़रूरी :

ज्यादातर लोग इस बात से अनभिज्ञ रहते हैं कि गर्भावस्था में किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना है।  जो शरीर के लिए पोषण युक्त हो और हेल्थी भी। तो यदि आप मखाने का सेवन दैनिक रूप से गर्भावस्था के दौरान करते हैं।  या फिर उसके उपयोग से बने हुए पकवान का सेवन करते हैं।

तो एक शोध के अनुसार; उस प्रसव के दौरान होने वाली सभी कमजोरियों को दूर रखने में मखाना आपकी बेहद सहायता करता है। क्योंकि इसमें कई पोषक तत्व जैसे कि आयरन, प्रोटीन, मैगनीशियम और पोटैशियम जैसे पाए जाते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को स्वस्थ और हष्ट- पुष्ट  रखने में मदद करते हैं।

ये भी पड़ें- प्रेग्नन्सी में क्या खाना चाहिए 

प्रेग्नन्सी में मखाने के फायदे: (Benefits of makhana in pregnancy)

  • पेट संबंधित समस्या  :

गर्भावस्‍था में हार्मोनल असंतुलन के कारण दस्‍त की संभवना हो सकती है। मखाना दस्‍त रोकने में मदद करता है। इनमें कुछ मात्रा में एल्‍केलोइड होते हैं जो कि आंतों को प्रभावित कर दस्‍त रोकते हैं।

इसीलिए प्रेग्नन्सी में मखाने का सेवन आपक इस समस्या से आपको राहत प्रदान करेगा। आप रोजाना इसे रोस्ट करके स्नैक्स के रूप में भी खा सकते हैं। 

  • ब्लड प्रेशर में :

मखाने के सेवन से प्रेग्नन्सी के दौरान हों वाली ब्लड प्रेशर की गंभीर समस्या भी ठीक हो सकती है । मखाने में पाए जाने वाला एल्कलॉयड हाइपरटेंशन यानी ब्लड प्रेशर की समस्या का नियंत्रण करने में सहायक होता है। इसीलिए इसका सेवन प्रेग्नन्सी में बीपी की समस्या दौरान लाभकारी होता है। 

प्रेग्नन्सी के दौरान बीपी का स्तर बनाए रखना बेहद ज़रूरी है। इसलिए इसे अनदेखा न करें। 


ये भी पड़ें- इन 8 पदार्थों से मिलता है विटामिन के 

  • डाइबीटीज़ में :

डायबिटीज़ जैसी गंभीर समस्या आजकल हर किसी व्यक्ति को हो रही है और जल्द ही निवारण भी नहीं होता है। लेकिन प्रेग्नन्सी के दौरान अगर आपको ये समस्या उत्पन्न होती है। तो ये आने वाल बच्चे के विकास के लिए समस्या पैदा कर सकता है। 

डॉक्टर्स की मानें तो रेसिस्टेंट स्टार्च में हाइपोग्लाइसेमिक; जो ब्लड शुगर को संतुलित रखने में मदद करता है।  मखाने में प्रभावी रूप से पाया जाता है। इसके प्रभाव से डायबिटीज़ की समस्या को नियंत्रित करने में बेहद सहायता मिलती है।  साथ ही इससे आपका इंसुलिन भी नियंत्रण में रहता है। 

प्रेग्नन्सी के दौरान डायबिटीज़ के लक्षण महसूस होने पर डॉक्टर से परामर्श लेना ना भूलें। 


ये भी पड़ें- डाईबीटीज़ के ये 15 लक्षण न करें नजरंदाज 

  • हृदय के लिए :

हार्ट अटैक और हार्ट स्ट्रोक जैसी समस्याओं के लिए मखाने का सेवन उच्च रूप से लाभदायक होता है। इसे डायबिटीज़ के जोखिम को कम करने का तरीका भी माना जाता है। 

एक रिसर्च के अनुसार मखाना (कमल का बीज ) कार्डियोवस्कुलर रोग यानी हृदय संबंधी रोग से हमारे शरीर का बचाव करता है। यानि इसका सेवन प्रेग्नन्सी के दौरान हृदय संबंधित समस्याओं से भी बचाव करता है।  

  • प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत:

100 ग्राम मखाने का प्रतिदिन सेवन आपको लगभग 10.71 ग्राम प्रोटीन की मात्रा प्रदान कर सकता है। मखाने में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है और इसिलिए इसके सेवन से शरीर में प्रोटीन की मात्रा पूर्ण की जा सकती है। 

साथ ही मखाना प्रेग्नन्सी में भी प्रोटीन की कमी नही होने देता ।

  • नींद न आने की समस्या :

अगर आप नींद ना आने की समस्या से जूझ रहे हैं तो मखाने का सेवन आपको इससे राहत दिला सकता है। एक शोध में पता चला है कि प्रेग्नन्सी में नींद ना आने की समस्या के लिए; इसका दैनिक रूप से सेवन लाभदायक हो सकता है। 

मखाने को आप दूध में उबालकर भी रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। 

  • किडनी के लिए :

अगर आप मखाने का उपयोग प्रेग्नन्सी में दैनिक रूप से करते हैं।  तो डॉक्टर्स का मानना है कि इससे प्रसव के दौरान किडनी से जुड़ी सभी परेशानियों से बचाव हो सकता है। 

इसलिए प्रेग्नन्सी महिलायें तो मखाने का सेवन दैनिक रूप से शुरू कर दीजिए, आपको लाभ अवश्य मिलेगा।

  • त्वचा के लिए ऐंटी एजिंग का काम करता है मखाना:

 ग्लोइंग त्वचा कौन नहीं चाहता,लेकिन प्रेग्नन्सी के दौरान हॉर्मोन्स के बदलाव के चलते त्वचा प्रभावित होती है। लेकिन आपको स प नही होगा मखाने का रोजाना सेवन करने से आपकी त्वचा का ग्लो बढ़ सकता है। 

आपको बता दें कि मखाने को एंटी एजिंग फायदों के लिए भी जाना जाता है।  यानी ये त्वचा से संबंधित सभी समस्याओं के लिए भी उपयोगी साबित है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण आपकी त्वचा पर उम्र के प्रभाव को कम करते है।  व झुर्रियों को हटा कर आपकी त्वचा को सुंदर और ग्लोइंग  बनाते हैं।

मखाने के सेवन के दौरान इन बातों का रखें ध्यान:(Things to keep in mind while consuming makhana) 

  • मखाने का सेवन शरीर के लिए बेहद फायदेमंद है, लेकिन अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जाए तो ये आपके लिए समस्या पैदा कर सकता है खासकर प्रेग्नन्सी में। जैसे कि गैस की समस्या या पेट में ऐंठन होना आदि। इसलिए प्रेग्नन्सी में इसका सेवन आप सीमित मात्रा में ही करें।
  • कई लोगों को मखाने से एलर्जी भी होती है।  ऐसे में अगर आपको प्रेग्नन्सी के दौरान मखाने के सेवन से किसी भी रूप में कोई भी दिक्कत महसूस होती है तो हम आपको सलाह देंगे कि आप तुरंत डॉक्टर से परामर्श ले ।

निष्कर्ष: (Conclusion)

प्रेग्नन्सी के दौरान शरीर के प्रति सावधानी बरतना एवं सतर्क रहना बेहद ज़रूरी है। हम क्या खा रहे हैं, हम क्या पी रहे हैं, और हम किस तरीके का खा रहे है…?ये सभी बातें बेहद ज़रूरी है। क्यूंकि प्रेग्नन्ट महिला की हर प्रक्रिया का प्रभाव बच्चे पर पड़ता है। 


बात करें अगर खाने की तो इसमे ध्यान देना इसलिए भी ज़रूरी है। क्यूंकि हर आहार से मिलने वाले तत्व बच्चे तक भी पहुचते हैं। तो अगर हेल्थी पदार्थों का सेवन ना करने से।  इसका प्रभाव बच्चे के विकास पर भी अवश्य पड़ेगा। इसलिए आपको प्रेग्नन्सी में कोई भी रिस्क लेने की आवश्यकता नही है। 


हेल्थी रहने के लिए आप हेल्थी आहार का सेवन करें। जैसे हरी सब्जियां, दाल , मौसम के फल, ड्राइ  फ्रूट्स आदि। साथ ही नियमित व्यायाम भी जरूर अपनी जीवनशैली मे शामिल करें। व्यायाम करने से शरीर का मानसिक विकास बना रहेगा और आप सक्रिय महसूस करेंगे। प्रेग्नन्सी के दौरान आप मखाने का सेवन स्वाद के अनुसार भी कर सकती है। कई बार मन मचलता है कुछ चटपटा खाने को। इसके लिए आप Healthy Master के मखाने की विभिन्न वराईटी जरूर आज़माएँ।